जिले के बारे में

गाज़ीपुर शब्द प्राचीन भारतीय इतिहास में नहीं है, लेकिन कुछ इतिहासकारों के अनुसार राजा गढ़ी महारसी जमदग्नी के पिता थे। उस अवधि के दौरान इस जगह को घने जंगलों से ढंका हुआ था और इसमें कई आश्रम थे यमदग्नी (परशुराम के पिता) आश्रम, पारसूम आश्रम, मदन वैन आदि। महर्षि गौतम के आश्रम गाज़ीपुर शहर के करीब 16 किलोमीटर दूर थे। गांव गौसपुर के आसपास पूर्व सारनाथ, जहां भगवान बुद्ध ने 6 वीं शताब्दी में बोधिसत्व प्राप्त किया था, बी.सी. लगभग 65 किमी था। इस जिला मुख्यालय से पश्चिम और वाराणसी जिले में गिरता है। इस प्रकार यह अपने समय के दौरान बुद्ध के उपदेश का केंद्र बन गया। यह शहर बौद्ध काल के दौरान एक महत्वपूर्ण केंद्र था। चीनी यात्री ह्यूएन त्संग ने इस इलाके का उल्लेख “चंचू” के रूप में किया है जिसका अर्थ युद्धक्षेत्रों की मिट्टी है, जो कि यहाँ पर लड़े हुए कई महत्वपूर्ण लड़ाइयों से संकेत मिलता है।